Computer क्या है काम कैसे करता है इसका पूरा इतिहास हिंदी में

6
75
What is Computer in Hindi
What is Computer in Hindi

हेलो दोस्तों आप सभी का हमारे एक और नए ब्लॉग पोस्ट में स्वागत है आज हम जानेगे What is Computer in Hindi, Computer Kya Hai अगर आप कंप्यूटर क्या है और कैसे काम करता है सबकुछ जानना चाहते है तो आज के इस ब्लॉग में आपको कंप्यूटर से जुडी हर जानकारी मिलेगी

दोस्तों आप सब जानते ही हो की आजकल के डिजिटल युग में हर जगह कंप्यूटर का इस्तेमाल हो रहा है और हर छोटे से छोटा और बड़े से बड़ा काम कंप्यूटर के द्वारा ही हो रहा है और आजकल रोज नई नई टेक्नोलॉजी आ रही है जिस से हमारी लाइफ और आसान बनती जा रही है

कंप्यूटर क्या है – What is Computer in Hindi

दोस्तों कंप्यूटर एक ऐसी मशीन है जिसमे आप अपने कार्य को सम्पादित करते है आसान शब्दों में कहूँ तो एक ऐसी इलेक्ट्रॉनिक मशीन है जो दो तथ्यों पर काम करता है पहला Input और दूसरा output इनपुट डिवाइस जैसे mouse, keyboard, scanner इत्यादि

जिसके जरिये आप कंप्यूटर डिवाइस में इनपुट डालके रिजल्ट (output) लेते हो और आउटपुट डिवाइस जैसे monitor, headphones, speaker, printer इत्यादि जिसके जरिया आपको आउटपुट मिलता है

दोस्तों Computer शब्द Latin के शब्द Computare से लिए गया है यानि गणना करना और कंप्यूटर कुछ इलेक्ट्रॉनिक चीज़ो से मिलकर बनता है जैसे RAM, Motherboard, Harddisk, Power Supply, Monitor इत्यादि चीज़ो को मिलाकर एक कंप्यूटर त्यार होता है

दोस्तों यहाँ निचे में आपके लिए एक वीडियो दाल रहा हु जिससे आपको what is computer in hindi के बारे में और अच्छे से मालूम हो जायेगा वैसे ये वीडियो SidTalk यूट्यूब चॅनेल से ली गयी है

Computer Definition in Hindi

C – Commonly, O – Operated, M – Machine, P – Particularly, U – Used for, T – Technical, E – Educational, R – Research

दोस्तों वैसे तो कंप्यूटर की कोई ऐसे टेक्निकल परिभासा नहीं है फिर सबसे ज्यादा और प्रचलन में computer definition in hindi मेने आपको ऊपर बता बता दिया चलिए अब जानते है की आखिर कंप्यूटर काम कैसे करता है

History of Computer in Hindi

दोस्तों आप के दिमाग में भी अक्सर ये आता होगा की आज जो आप लैपटॉप या कंप्यूटर जैसी टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल कर रहे है आखिर ये सबसे pehle किसने खोजा था तो में आपको बता दू सबसे पहले कंप्यूटर की खोज Charles Babbage ने किआ था और इसलिए इन्हे father of computer भी कहा जाता है दोस्तों वैसे हम इलेक्ट्रिक कंप्यूटर को 5 जनरेशन में बाटते है

First Generation of Computer (1942 – 1956)

दोस्तों पहली जनरेशन के कंप्यूटर 1942 में बनने शुरू हुवे थे दोस्तों इस जनरेशन के कंप्यूटर में एक वैक्यूम tube इस्तेमाल किआ जाता था दोस्तों ये एक ऐसा इलेक्ट्रिक डिवाइस था जो इलेक्ट्रिक करंट के flow को कण्ट्रोल कर सकता था जो television, radio राडार आदि में इस्तेमाल किआ जाता था

दोस्तों इस जनरेशन के कंप्यूटर साइज में बड़े हुवा करते थे और इनमे काफी पैसा खर्च होता था और इनमे ये पता नहीं था की जो रिजल्ट यानि आउटपुट आएगी वो सही भी होगा या नहीं मतलब इस जनरेशन के कंप्यूटर ज्यादा trust-worthy नहीं थे

Second Generation of Computer (1952- 1964)

दोस्तों फिर इसी बिच कंप्यूटर की दूसरी पीढ़ी आयी जिसमे ट्रांजिस्टर इस्तेमाल होने लगे और ये ऐसा semi-conductor डिवाइस था जो इलेक्ट्रिक करंट को कण्ट्रोल amplify और स्विच करने के काम आता था और ये पहली पीढ़ी के बदले तोड़े छोटे आने लग गए थे

और दूसरी पीढ़ी के कंप्यूटर पहले की बजाये फ़ास्ट और reliable भी थे लेकिन अभी भी ये काफी मेहेंगे थे और इनको इस्तेमाल करना तोडा मुश्किल काम था और ये कंप्यूटर काफी गर्मी यानि heat पैदा करते थे

Third Generation of Computer (1964 – 1972)

दोस्तों इस जनरेशन के कंप्यूटर को और ज्यादा फ़ास्ट बनाने और फ़ास्ट काम करने के लिए SSI (Small Scale Integration) और MSI (Medium Scale Integration)टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल जाने लगा और IC यानि integrated circuit इस्तेमाल किआ जाने लगा जिसमे इलेक्ट्रिक Component जैसे registrar, capacitor, transistor को इंटीग्रेटेड सर्किट में लगाया जाता था और इस वजह से third-generation के कंप्यूटर की प्रोसेसिंग स्पीड यानि काम करने की क्षमता और अधिक बढ़ गयी

और इस जनरेशन के कंप्यूटर पहले से छोटे और reliable थे और तोड़े पहले की बजाये सस्ते भी थे और कुछ हद तक कमर्शियल use के लिए इस्तेमाल होने लगे लेकिन ये अभी भी तोड़ी हीट पैदा करते थे

Fourth Generation of Computer (1972 – 1989)

दोस्तों इस जनरेशन के कंप्यूटर में LSI (Large Scale Integration) और VLSI (Very Large Scale Integration) टेक्नोलॉजी इस्तेमाल की जाने लगी जिस से एक ही चिप पर लाखो कॉम्पोनेन्ट को इंसटाल कर सकते थे जिस कंप्यूटर काफी फ़ास्ट और reliable तो था ही साथ में ये portable भी थे और पहले की बजाये काफी सस्ते भी थे और इनमे कम maintenance खर्चा आता था और ये कंप्यूटर बहुत कम हीट पैदा करते थे

Fifth Generation of Computer Hindi

दोस्तों 5th जनरेशन के कंप्यूटर में अब ULSI (Ultra Large Scale Integration) और GSI (Giant Scale Integration) की टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल किआ जाने लगा जिसमे एक ही इंटीग्रेटेड चिप पर करोडो इलेक्ट्रिक कॉम्पोनेन्ट को इस्तेमाल किआ जा सकता था इस जनरेशन के कंप्यूटर parallel प्रोसेसिंग, सॉफ्टवेयर और आर्टिफीसियल इंटेलेजन्स का इस्तेमाल होने लग गया था

जिस से ये कंप्यूटर पहले से काफी ज्यादा फ़ास्ट काम करते थे और काफी सस्ते और compact भी हो गए थे और इस जनरेशन के कंप्यूटर को इस्तेमाल करना लोगो के लिए आसान हो गया था और ये कंप्यूटर user-friendly बन गए थे

Read More Useful Post :-

What is Computer in Hindi – और कैसे काम करता है

What is Computer in Hindi :- दोस्तों कंप्यूटर मुख्यतः तीन Step में काम करता है पहला Input डाटा को लेना जो की हम लोग कंप्यूटर को command देते है यानि इनपुट देते है और उसके बाद हमारी दी गयी कमांड को process करता है और लास्ट तीसरे स्टेप में हमें रिजल्ट लाके देता है यानि output देता है

दोस्तों हर कंप्यूटर तीन तरीके से ही काम करता है जो आगे में आपको step-by-step बताऊंगा आपको बस इस पोस्ट को आखिरी तक पड़ना है तभी आप समझ पाएंगे कंप्यूटर क्या है (What is Computer in Hindi) और कैसे काम करता है

  • Input/Output Devices
  • Memory (RAM)
  • CPU

Input/Output Device

दोस्तों इनपुट डिवाइस ऐसे जिस से कंप्यूटर में इनपुट आये जैसे keyboard, mouse Scanner आदि को हम इनपुट डिवाइस कहते है और आउटपुट डिवाइस जैसे  Monitor, Printer आदि तो हम आउटपुट डिवाइस कहते है

और जब भी आप कंप्यूटर को इनपुट देते है यानि कोई भी डाटा या किसी फाइल को खोलते है तो सबसे पहले वह command या instruction रैम (RAM – Random Access Memory) के पास जाती है और अगर आपकी रैम के पास वह डाटा या फाइल्स होती है तो वो आपको आउटपुट के जरिये दिखा देखा देता है

और अगर रैम के पास वह डाटा नहीं होता तो रैम आगे हार्ड डिस्क के पास फॉरवर्ड कर देती है उसके बाद डाटा CPU (Central Processing Unit) के द्वारा process करके आपके आउटपुट डिवाइस के द्वारा डाटा को दिखाया जाता है

RAM (Random Access Memory)

दोस्तों ram कोई Permanent स्टोरेज डिवाइस नहीं है यह एक temporary storage डिवाइस है जिसमे आपका डाटा कुछ समय के लिए रहता है जैसे अगर आप किसी फाइल पर काम कर रहे तो वह फाइल और डाटा आपकी RAM में तब तक रहता है जबतक आप उसको अपनी hard-disk में सेव नहीं कर लेते

इसलिए आपकी रैम आपके उस डाटा को Hold करके रखती जब तक आप उसको सेव नहीं कर लेते और जितनी ज्यादा GB की आपकी रैम होगी उतनी फ़ास्ट आपके कंप्यूटर की काम करने की क्षमता बढ़ जाएगी और आप अपने कंप्यूटर पर Multi-Tasking कर पाएंगे

CPU – Central Processing Unit

दोस्तों CPU कंप्यूटर का सबसे एहम हिस्सा होता है CPU किसी भी कंप्यूटर का दिमाग होता है और जब भी आप कंप्यूटर को कोई भी कमांड देते है तो उसको जल्द से जल्द process करके यूजर तक लाने का काम होता है और आपका CPU जितना ज्यादा अच्छा होगा यानि जितना ज्यादा threads और core आपके CPU में होंगे उतनी ही ज्यादा आपकी कंप्यूटर की प्रोसेसिंग स्पीड होगी

दोस्तों ये आपके द्वारा दी गयी सभी instruction को फॉलो करके आपको रिजल्ट यानि output लाके देता है यह और भी काफी नामो से जाना जाता है जैसे Processor, Microprocessor, Central Processor इत्यादि

Characteristics of Computer – (कंप्यूटर की विषेशताएं)

दोस्तों यहाँ हम characteristics of computer की विभिन्न प्रकार की विशेस्ताओ की बात करेंगे जो आप सब को शायद मालूम ही हो

Speed – काम करने की तेजी

दोस्तों कंप्यूटर की यह सबसे बड़ी खासियत है की इसमें आप अपने कोई भी काम बहुत आसानी से और कम समय में तेजी से कर सकते है जिसको करने में एक इंसान को काफी वक़्त लग सकता है उसी काम को कंप्यूटर मशीन बहुत जल्दी कर के दे देती है और कंप्यूटर की काम करने की स्पीड इंसान से कहि गुना ज्यादा होती है

Accuracy – शुद्धता

दोस्तों कंप्यूटर की ये सबसे बड़ी दूसरी विशेस्ता है की ये आपको एकदम सही आकड़ा दिखता है और वो आकड़ा एकदम सही और एक्यूरेट होता है जिस से आपको अपना सारा काम बिना किसी गलती में सही और जल्दी भी मिलता है

समय की बचत

दोस्तों जाहिर सी बात है कंप्यूटर कोई भी कितना भी मुश्किल काम आपको चंद सेकंड में करके देता है जिस से आपकी समय भी बचत होती है ये कंप्यूटर की सबसे बड़ी विशेस्ता भी है

Versatility (बहुमुखी प्रतिभा)

दोस्तों जैसा की आप जानते है आज के जमाने में कंप्यूटर का इस्तेमाल सिर्फ घर ऑफिस इत्यादि में नहीं बल्कि और काफी सारी जगह किआ जाता है जैसे स्पेस की जानकारी (NASA) लेने में और भी काफी अलग अलग फील्ड में इसका उपयोग किआ जाता है इसलिए कंप्यूटर एक बहुउपयोगी साधन है

Reliability (विश्वसनीयता)

दोस्तों कंप्यूटर मशीन बहुत ही पावरफुल होती है आप इसमें अपना कोई भी डाटा सालो साल तक रख सकते है और ये सालो तक बिना रुके और थके निरंतरता से काम करता है और बाद में भी आपको आपका हर एक डाटा एक्यूरेट ही मिलता है

High Capacity (संग्रहण क्षमता)

दोस्तों कंप्यूटर की एक और सबसे अच्छी विशेस्ता है की आप इसमें जितना चाहे data, files, information इत्यादि को स्टोर यानि सेव करके रख सकते है और बाद ने जरुरत पड़ने पर उसे खोज के देख सकते है

Diligence (तत्परता)

दोस्तों आजके समय में कोई भी इंसान तोडा काम करके जल्दी थक जाता है और इसके विपरीत कंप्यूटर मशीन बिना रुके लगातार तत्परता से अपना कार्य करती है इसके बावजूद कंप्यूटर मशीन के काम करने की तत्परता में कोई भी कमी नहीं aati

Parts of Computer in Hindi – कंप्यूटर के विभिन्न प्रकार

RAM (Random Access Memory)

दोस्तों RAM आपके कंप्यूटर के डाटा को होल्ड करता है जब तक आप उस फाइल्स या डाटा को सेव नहीं कर लेते और फिर आगे CPU के पास प्रोसेस करने के लिए भेज देता है

Processor

दोस्तों जैसा की मेने आपको बताया की ये आपके कंप्यूटर का सबसे महतवपूर्ण हिस्सा होता है और आपके द्वारा दी गयी सभी instruction को फॉलो करके आपको आउटपुट दिखता है जितना ज्यादा आपका प्रोसेसर पावरफुल होगा उतनी जल्दी आपके कंप्यूटर की प्रोसेसिंग स्पीड फ़ास्ट hogi

Harddisk

दोस्तों आप जितना भी data, files, information अपने कंप्यूटर में सेव करते है वो सभी डाटा आपके हार्ड डिस्क में ही सेव होता है इसका ज्यादातर इस्तेमाल डाटा को सेव करने के लिए ही किया जाता है और इसमें आपकी window भी इनस्टॉल होती है यानि ऑपरेटिंग सिस्टम और ये एक permanent storage डिवाइस है

Motherboard

दोस्तों कंप्यूटर का सबसे महत्वपुर्ण भाग motherboard है क्यूंकि motherboard ही सभी कंप्यूटर के हिस्सों को एक साथ जोड़ने का काम करता है जैसे RAM, Processor, Graphic Card, Hard-Disk इत्यादि को जोड़कर उन्हें power देता है और ये जनता है की किस हिस्से को कितनी पावर देनी है और इसको Logical Board, Printed Wired Board भी बोलते है

Power Supply

दोस्तों जैसा की इसके नाम से ही पता चल रहा है की ये आपके कंप्यूटर पावर देने का काम करता है जिसकी मदद से आपका कंप्यूटर या कंप्यूटर का हर हिस्सा चलता है और काम कर पाता है

SSD (Solid State Drive)

दोस्तों ये भी HDD की तरह ही एक परमानेंट स्टोरेज डिवाइस है लेकिन ये हार्ड डिस्क ड्राइव की बजाये 5X गुना जाता स्पीड से काम करती है और इस से आपके कंप्यूटर की स्पीड काफी अच्छी हो जाती है

Graphic Card

दोस्तों graphic-card आपके कंप्यूटर का जरुरी हिस्सा है जिस से आप heavy work कर पाते है और ये आपके कंप्यूटर का एक हार्डवेयर पार्ट है और जो motherboard के साथ जुड़ता है और आपको अच्छी से अच्छी performance देता है ये भी एक तरह की मेमोरी होती है जो आपके heavy-work जैसे gaming, editing आदि सभी को हैंडल करता है

Types of Computer in Hindi

दोस्तों यहाँ हम बात करेंगे की कंप्यूटर कितने प्रकार के होते है

Desktop Computers

दोस्तों डेस्कटॉप कंप्यूटर कुछ अलग अलग हार्डवेयर पार्ट को एकसाथ मिलाके assemble किआ जाता है जो की काफी ज्यादा जगह घेरता है जिसको डेस्क पर रखा जाता है इसलिए इसको डेस्कटॉप कंप्यूटर कहा जाता है और इसको आप एक जगह पर ही रख सकते है इसलिए ये portable नहीं होता है

Laptop Computers

दोस्तों ये डेस्कटॉप की बजाये portable होता है और इस्को आप एक स्थान से दूसरे स्थान पर आसानी से ले जा सकते है और ये डेस्कटॉप की बजाये काफी हल्का भी होता है जो की बैटरी पर चलता है

Tablet Computers

दोस्तों ये लैपटॉप की बजाये काफी हल्का और portable होता जिसको आप आसानी से कहि भी इस्तेमाल कर सकते है और इसमें माउस एंड कीबोर्ड की बजाये touch-screen के द्वारा नेविगेशन होती है यानि touchscreen के द्वारा काम होता है और इसमें android, iOS ऑपरेटिंग सिस्टम इस्तेमाल किआ जाता है

Server Computers

दोस्तों ये और कंप्यूटर की तरह ही होते है जिसमे काफी सारा डाटा और फाइल्स, इनफार्मेशन सेव होती है सभी वेबसाइट की जिसे आप ऑनलाइन देख या खोल पाते है जैसे अभी आप मेरा ये ब्लॉग पढ़ रहे है तो ये आर्टिकल और वेबसाइट का सारा डाटा और फाइल्स सर्वर कंप्यूटर के अंदर सेव है तभी आप इसको ऑनलाइन देख पा रहे है

Hardware vs Software in Hindi

Hardware :- दोस्तों हार्डवेयर पार्ट यानि जिसे आप छू सकते है जैसे आपके कंप्यूटर के पार्ट RAM, Harddisk, Motherboard, Graphic Card, Keyboard, Mouse  इत्यादि को हार्डवेयर में गिना जाता है इसमें आपके कंप्यूटर के सभी internal पार्ट आते है

Hardware
Hardware

Software:- दोस्तों सॉफ्टवेयर वह है जिससे आप केवल देख सकते है छू नहीं सकते जैसे आपके कंप्यूटर के software और application इत्यादि आपके सॉफ्टवेयर पार्ट में गिने जाते है जैसे आप हमारा पोस्ट पड़ने के लिए वेब ब्राउज़र का इस्तेमाल कर रहे है तो ये सॉफ्टवेयर एप्लीकेशन है और पोस्ट पड़ने के लिए और नेविगेशन के लिए आप माउस और कीबोर्ड हार्डवेयर का इस्तेमाल कर रहे ho

Software
Software Application

Final Words

दोस्तों आशा करता हु की आपको मेने What is Computer in Hindi, Computer Kya Hai अगर आपको हमारा ये पोस्ट अच्छा लगा हो तो कृपया इसको शेयर जरूर करे और अगर अभी भी आपके मन में अभी भी कंप्यूटर को लेके कोई भी सवाल है तो comment करके जरूर पूछे

6 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here