Bounce Rate Kya Hai कैसे कम करे और इसका रैंकिंग में क्या रोल है

0
70
Bounce-Rate-Kya-Hai-Hindi
Bounce-Rate-Kya-Hai-Hindi

Bounce Rate क्या है (Bounce Rate in Hindiदोस्तों क्या आप जानते है की आखिर बाउंस रेट क्या है और इसको कम कैसे करे और ये गूगल रैंकिंग में कितना महतवपूर्ण भूमिका निभाता है आज में आपको इस टॉपिक के ऊपर पूरी विस्तार से जानकारी देने वाला हु

दोस्तों अगर आप एक ब्लॉगर है तो सायद आप बाउंस रेट के बारे में जानते होंगे की यह कितना आवश्यक है और जब आप अपने वेबसाइट की analytics देखते है तो वहां अपने बाउंस रेट भी देखने को जरूर मिला होगा

क्या आप जानते है इसका क्या महत्व है आपके ब्लॉग या वेबसाइट में और बाउंस रेट कम और ज्यादा होने पर आपके ब्लॉग में क्या फर्क पड़ सकता है सायद आप यह नहीं जानते होंगे आज में आपको बताऊंगा आपकी वेबसाइट का कितना तक बाउंस रेट होना चाहिए

Bounce Rate Kya Hai (Bounce Rate in Hindi)

Bounce Rate Kya Hai यह आपके ब्लॉग या वेबसाइट का वह एक हिस्सा यानि part है जो की दर्शाता है की आपकी ऑडियंस आपके कंटेंट से कितना संतुष्ट है यानि जो आपके ब्लॉग में विजिटर आ रहे है उनको आपका कंटेंट कितना अच्छा लग रहा है जितना दमदार आपका कंटेंट होगा उतने ही आपके बाउंस रेट कम होने के chances है

जितना अच्छा और क्वालिटी कंटेंट आप अपने ब्लॉग पर डालेंगे उतना ज्यादा देर तक लोग आपके ब्लॉग में रहेंगे और ब्लॉग को पड़ेंगे और दूर पोस्ट को भी जरूर पड़ेंगे इस से आपके ज्यादा Pageviews होंगे और अगर ज्यादा से ज्यादा pageviews होंगे तो उतना ही आपका बाउंस रेट कम होंगे और आप गूगल में और अच्छे से रैंक कर पाएंगे

Example: जैसे यदि मान लीजिये मेरी इस वेबसाइट का बाउंस रेट 50% है तो इसका मतलब है की 50% लोग मेरे वेबसाइट में सिर्फ एक पेज पर आकर वापस चले गए तो इसी को Bounce  Rate कहा जाता है और ये जितना कम होगा उतना ज्यादा आपके वेबसाइट के लिए अच्छा होगा

यानि यदि कोई विजिटर आपके ब्लॉग पर आया और उसने आपके एक पोस्ट को पड़ा और उसके बाद return यानि वापस चला गया तो इस से आपका बाउंस काफी जाता हो जाता है

Bounce Rate कितना होना चाहिए

दोस्तों आशा करता हु की समझ आ गया होगा की आखिर Bounce Rate Kya Hai तो अब में आपको यहाँ बताऊंगा की बाउंस रेट कितना तक होना चाहिए अगर आपके ब्लॉग का बाउंस रेट इस से अधिक है तो आपको इसपर काम करना होगा जो में आगे आपको बाउंस रेट को कम करने के कुछ टिप्स दूंगा

  • 10% से 30%
  • 40 से 50%
  • 60 से 70%

दोस्तों यहाँ मेने आपको कुछ बाउंस रेट की परसेंटेज बताई है अगर आपकी वेबसाइट का बाउंस रेट 10 से 30% है तो यह बाउंस रेट काफी अच्छा है और अगर 40 से 50% तक है तो यह भी एक normal और सही बाउंस रेट है लेकिन फिर भी आपको इसको कम करना chahiye

और यदि आपकी वेबसाइट का बाउंस रेट 60 से 70% या इस से ज्यादा तो यह बहुत बुरा बाउंस रेट मान जाता है आपको इसको गम्भीरता से लेना चाहिए और इसको कम करना चाहिए

Bounce Rate ज्यादा किस वजह से होता है

दोस्तों जब कोई newbie अपना ब्लॉग शुरू करता है तो ब्लॉग्गिंग की कम जानकारी होने के कारन वह कुछ गलतिया करता है जिससे वेबसाइट का बाउंस रेट काफी बाद जाता है यहाँ कुछ ऐसे mistake बताऊंगा जो अक्सर नए ब्लॉगर अपने ब्लॉग पर करते है

  • कंटेंट लिखने का तरीका सही ना होना यह गलती ज्यादातर सभी नए ब्लॉगर करते है उन्हें शुरुवात में पता नहीं होता की आखिर कंटेंट किस तरीके से लिखना है और कैसे कंटेंट को कैसे अट्रैक्टिव बनाना है  
  • वेबसाइट का डिज़ाइन अच्छा ना होना भी एक कारन बाउंस रेट के बढ़ने का क्यूंकि आजकल ब्लॉग का डिज़ाइन यानि user-interface का अच्छा होना बहुत ही जरुरी है
  • वेबसाइट की स्पीड का कम होना यह भी सबसे बड़ा कारण है बाउंस रेट के बढ़ने का अक्सर नए ब्लॉगर कोई सस्ती की होस्टिंग खरीद लेते है जिस से की आपकी वेबसाइट की स्पीड बिलकुल कम हो जाती है और खुलने में काफी देर लगती है जिससे यूजर परेशान होकर आपके वेबसाइट से जल्दी चला जाता है
  • क्वालिटी कंटेंट का ना होना सबसे बड़ा कारण हो सकता है बाउंस रेट के बढ़ने का इसलिए हमेसा ऐसा कंटेंट डाले जो दुसरो को बहुत हेल्प करे और दूसरे लोगो की प्रॉब्लम को सोल्वे करे हमेसा ऐसा कंटेंट डाले

Bounce Rate Reduce कैसे करे

दोस्तों यहाँ में आपको बताऊंगा Bounce Rate Reduce Kaise Kare आपके साथ कुछ ऐसे टिप्स शेयर करूँगा जिस से आप अपनी वेबसाइट का बाउंस रेट कम कर सकते हो

Quality and Attractive Content लिखे

दोस्तों यदि आप अपने बाउंस रेट को कम करना चाहते है तो हमेसा ऐसा कंटेंट लिखे जिस से आपके विजिटर को आपके कंटेंट से कुछ अच्छी जानकारी मिले और उनकी प्रॉब्लम भी solve हो जिस से उनका आपके ब्लॉग पर विश्वास बनेगा और वो आपके वेबसाइट में और अधिक जानकारी पाने के लिए अलग लग आर्टिकल पड़ेंगे जिस से आपका बाउंस रेट बहुत अच्छा हो जायेगा

Post Interlinking जरूर करे

दोस्तों कई नए ब्लॉगर अपने आर्टिकल के अंदर इंटरनल लिंकिंग नहीं करते जो की बहुत गलत है अगर आप अपनी वेबसाइट का बाउंस रेट कम करना चाहते है तो हमेसा अपने पोस्ट के अंदर इंटरनल लिंकिंग जरूर करे और पोस्ट में ज्यादा भी internal-linking ना करे और जिस टॉपिक पर आर्टिकल उसी से मिलती जुलते आर्टिकल को पोस्ट में लिंक करे

Blog Design Attractive बनाये

जी हाँ दोस्तों इस चीज़ को नज़रअंदाज़ बिलकुल भी ना करे जितना अच्छा और unique attractive ब्लॉग का डिज़ाइन होगा उतना ही यूजर आपकी वेबसाइट के अलग लग पेज पर जायेगा इसलिए आज के समय में user-interface का अच्छा होना बहुत ही जरुरी है जिससे बाउंस रेट कम होने के ज्यादा chances है पर ध्यान दे

Website Loading Speed

दोस्तों हमेसा अपनी वेबसाइट की लोडिंग स्पीड पर ध्यान क्यूंकि अगर आपकी वेबसाइट खुलने में देर करेगी तो यूजर जल्दी परेशान होकर वापस चला जाता है क्यूंकि उनके पास कंटेंट की कमी है आपकी वेबसाइट से नहीं तो किसी और की वेबसाइट से वह जानकारी प्राप्त कर लेंगे लेकिन इसमें आपको नुकसान उठाना पड़ सकते है इसलिए अपनी वेबसाइट स्पीड को सही करे

Paragraph Length कम रखे

जी हाँ दोस्तों हमेसा आर्टिकल लिखते समय अपने पैराग्राफ की लेंथ को छोटा रखे जिससे यूजर को आपका आर्टिकल पड़ने में परेशानी नहीं और वो ज्यादा समय तक आपके और ब्लॉग को पड़े हमेसा हर पैराग्राफ की लेंथ 3 लाइन से ज्यादा नहीं होना चाहिए

Blog Post में ज्यादा Ad ना लगाए

दोस्तों इस बात का विशेष ध्यान रखे अपने ब्लॉग पोस्ट को ad से ज्यादा ना भरे जिस से यूजर irritate होकर वापस चला जाता है और आपका बाउंस इस से काफी बढ़ जाता है इसलिए हमेसा अपने ब्लॉग पोस्ट में ज्यादा ad ना लगाए 1000 word के आर्टिकल से 4 से 5 ऐड सही है

Bounce Rate का रैंकिंग में क्या रोल है

दोस्तों अब चलिए जानते है क्या सही में बाउंस रेट निश्चित करता की हमारे वेबसाइट की रैंकिंग कैसे होगी अगर में अपने एक्सपीरियंस के हिसाब से बोलू तो यह रैंकिंग में बिलकुल रोल अदा करता है वैसे ये analytics सिर्फ यूजर के लिए बनाया गया है ताकि आपको अपनी वेबसाइट की performance के बारे में पता लग सके

लेकिन indirectly यह आपकी वेबसाइट रैंकिंग बहुत बड़ा रोल निभाता है क्यूंकि अगर कोई विजिटर आपके ब्लॉग के कंटेंट से संतुस्ट नहीं है और जल्दी आपके ब्लॉग से चला जाता है तो इसमें गूगल अपने algorithm से पता लगाता है

loading…

की यूजर आपके वेबसाइट से संतुस्ट है या नहीं और गूगल हमेसा उन्ही वेबसाइट को सर्च रिजल्ट में आगे दिखता है जिस से यूजर कंटेंट से पूरी तरह संतुस्ट होते है इसलिए बाउंस रेट रैंकिंग indirectly बहुत महतवपूर्ण भूमिका निभाता है

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here